मैथिली विद्यापति गीत

के पतिया लए जायत रे
मोरा प्रियतम पास

स्वर : अामोद झा

Tuesday, August 30, 2011

Vidyapati Geet (Thumri) - Kunj Bhavan Se - Bidur Mallik (Nightingale of Mithila)


___________________________________________________

कुंज-भवन सएँ निकसलि रे, रोकल गिरधारी |

एकहि नगर बसु माधब हे, जनि करू बटमारी ||


अरे! छाड़ कन्हैय्या मोर आँचर रे, फाटत नव-साड़ी |

अपजस होयत जगत भरि रे, जनि करिअ उघारी ||


दामिनी आए तुलाएलि रे, एक राति अँधारी |

संगक सखि अगुआइलि रे, हम एकसरि नारी ||


भनहि विद्यापति गाओल रे, सुनु गुनमति नारी |

हरिक संग किछु डर नहि रे, तुं तs परम गमारी ||


शब्दार्थ:

सएँ = से

निकसलि = निकली

रोकल = रोकना

बसु = रहते हो

बटमारी = डकैती, राहजनी

उघारी = नग्न

संगक = साथ की

अगुआइलि = आगे गई

एकसरि = अकेली

दामिनी आए तुलाएलि = बिजली भी चमकने लगी, मेघ छा गए

अँधारी = अँधेरा, कृषणपक्ष की

हरिक = श्रीकृषण के,

गमारी = गँवार, निर्बुद्धि |


भावार्थ: राधा के कुंज भवन से बाहर होते ही कृषण ने उन्हें रोक लिया, राधा कहती है, है कृषण ! एक ही गाँव में बसकर इस प्रकार राहजनी नहि करो |


है कृषण ! मेरा आँचल छोड़ दो, मेरी नई साड़ी फट जाएगी और संसार भर में अपजस होगा (मुझे भी और तुम्हे भी | मुझे बेपर्दा मत करो | मेरे साथ की सखियाँ
आगे बढ़ गयी हैं, और में अकेली स्त्री हूँ - अकेली हूँ और स्त्री हूँ उसपर आकाश में बिजली भी चमक रही है और रात भी अँधेरी है |

विद्यापति कवी कहते हैं या गाते हैं, कि है गुणवती नारी, सुनो ! भगवान् कृषण के साथ तुम्हे कुछ भी डर नहीं है, तुम परम अज्ञानी हो, जो भगवन कृषण के
साथ रहने पर भी डरती हो |
___________________________________________________
Download

0 comments:

|| हवा के संग रहना
मोजों के साथ चलना
जिन्दगी कुछ ऐसी हो के
जिन्दगी के हर रंग में रंगना ||

DISCLAIMER


All MP3's are up for a limited time and are for sampling purposes only. Music posted here is posted out of love, not with the intention for profit or to violate copyright. Please buy it if official reissue is available. Artists & labels need our support! Good day for You All!

  © Blogger template 'Personal Blog' by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP